Thursday , 21 June 2018
Loading...
Breaking News

नीरव मोदी ने 5 जून को CBI को दिया जवाब

पीएनबी महाघोटाले का मुख्य आरोपी  भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी के बारे में इंटरपोल ने नया खुलासा किया है. इंटरपोल ने दावा किया है कि नीरव लंदन में नहीं है  पिछले एक महीने से लगातार इंडियन पासपोर्ट पर संसार भर में घूम रहा है. जबकि विदेश मंत्रालय ने पहले ही उसका पासपोर्ट रद्द कर दिया है. वहीं केंद्रीय जांच एजेंसी (सीबीआई) द्वारा केस दर्ज करने के बाद ही नीरव ने अपनी सभी शैल कंपनियों के छद्म निदेशकों को हांगकांग से काहिरा भेज दिया था.
Image result for नीरव मोदी ने 5 जून को CBI को दिया जवाब

इंटरपोल ने CBI को 5 जून को दिए लेटर के जवाब में लिखा है कि नीरव मोदी लगातार इंडियनपासपोर्ट पर पूरी संसार में सफर कर रहा है. वो घोटाला उजागर होने के बाद हांगकांग और यूके सहित 4 राष्ट्रों में यात्रा कर चुका है. CBI ने इससे पहले ही इंटरपोल से नीरव मोदी  उसके मामा मेहुल चोकसी के विरूद्ध रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने के लिए लिखा था.

पहले इंग्लैंड में होने की थी पुष्टि
हालांकि दो दिन पहले ही नीरव मोदी के इंग्लैंड में होने की पुष्टि वहां की गवर्नमेंट ने की थी. इस दौरान रिपोर्ट आई थी कि नीरव ने संरक्षण के लिए मदद मांगी है. ब्रिटेन गवर्नमेंट ने पुष्टि की है कि नीरव उनके राष्ट्र में हैं. साथ ही ब्रिटेन गवर्नमेंट ने शराब कारोबारी विजय माल्या, नीरव  ललित मोदी के प्रत्यर्पण कार्रवाई में हिंदुस्तान को पूरी तरह से योगदान देने का वादा किया है.

प्रमुख गवाह ने खोला राज
हांगकांग स्थित एक शैल कंपनी अनुरागन के डायरेक्टर  इस घोटाले के प्रमुख गवाह दिव्येश गांधी ने दावा किया है कि वह इन सभी 6 फर्जी कंपनियों का अकाउंट देख रहे थे. घोटाला उजागर होने के बाद अमेरिका में रहने वाले नीरव मोदी के सौतेले भाई नेहल मोदी ने सभी छद्म निदेशकों के मोबाइल फोन को तोड़ दिया. इसके बाद उन्हें हांगकांग से काहिरा शिफ्ट कर दिया गया.
परिवार के सदस्यों के विरूद्ध गैर जमानती वारंट
मुबंई की एक विशेष न्यायालय ने  हीरा कारोबारी नीरव मोदी  उसके परिवार के विरूद्ध गैर जमानती वारंट जारी किए. ईडी ने पिछले महीने नीरव मोदी  उसके पिता दीपक मोदी, बहन पूर्वी मेहता, बहनोई मयंक मेहता, भाई नीशल मोदी  एक दूसरे रिश्तेदार निहाल मोदी सहित 23 लोगों के विरूद्धपीएनबी से जुड़े धोखाधड़ी के मामले में 12,000 पन्नों का आरोप-पत्र दायर किया था. एजेंसी ने आरोपियों के विरूद्ध मामले में इंडियन दंड संहिता  पीएमएलए की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है.