Thursday , 21 June 2018
Loading...
Breaking News

फिल्म सूरमा जिसका ट्रेलर को किया जारी

हिंदी सिनेमा अब बायोपिक से भरने लगा है व उसी कड़ी में एक नाम जुड़ गया है इंडियन हाकी के बेहतरीन ड्रैग फ्लिकर संदीप सिंह का. उनके ज़िंदगी पर एक फिल्म बनाई गई है सूरमा, जिसका ट्रेलर सोमवार को जारी किया गया.

Image result for फिल्म सूरमा

भारतीय हाकी टीम के पूर्व कप्तान संदीप सिंह पर बनी बायोपिक सूरमा में दिलजीत दोसांझ ने मुख्य किरदार निभाई है. शाद अली के निर्देशन में बनी इस फिल्म में तापसी पन्नू, अंगद बेदी, विजय राज व कुलभूषण खरबंदा की अहम् किरदार है. पंजाब के सिंगर एक्टर दिलजीत ने फिल्म उड़ता पंजाब के जरिये अपने एक्टिंग का एक नज़ारा दिखाया था व इस फिल्म में वो पूरी तरह हाकी खिलाड़ी व उसके साथ हुए हादसे को दिखाने की प्रयास में हैं. तापसी पन्नू ने भी अपना जुड़वा 2 वाला चोला उतार कर मैदान में स्टिक व गेंद से दोस्ती कर ली है. फिल्म में वो हरप्रीत की किरदार में हैं. ये फिल्म पूरी संदीप सिंह की कहानी है व 13 जुलाई को रिलीज़ हो रही है. करीब ढाई मिनट के जारी किये गए इस ट्रेलर को आप यहां देख सकते हैं –

यह भी पढ़ें:   श्रीदेवी की मौत के बाद उनकी बेटियों के जिंदगी में आए ये बदलाव

कौन हैं संदीप सिंह

Loading...

साल 1986 में हरियाणा के कुरुक्षेत्र में पैदा हुए संदीप सिंह को इंडियन हाकी के बेहतरीन ड्रैग फ्लिकर में से एक माना जाता रहा है. पेनाल्टी कार्नर को गोल में तब्दील करने में उन्हें महारथ हासिल था. वर्ष 2004 में क्वालालम्पुर के सुल्तान अजलान शाह हाकी टूर्नामेंट से अपना इंटरनेशनल करियर प्रारम्भ करने वाले इंडियन टीम के इस फुल बैक ने कई मौको पर हिंदुस्तान को जीत दिलाई. वर्ष 2006 में शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन में गोली लगने के बाद वो अपाहिज हो गए थे व व्हीलचेयर पर चलना पड़ता था लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी व फिर से हाकी के मैदान में अपना वही जोश दिखाया.

संदीप का भूमिका कर रहे दिलजीत ने इस फिल्म के बारे में बताया था कि उन्हें जब यह फिल्म पहले ऑफ़र की गई थी तो उन्होंने इसे करने से मना कर दिया था. दिलजीत कहते हैं कि मुझे उस वक़्त पूरी कहानी का पता नहीं था व मुझे लगा कि अभी बॉलीवुड में तो बस आरंभ की है. अभी मैं इस तरह की फिल्मों के लायक नहीं हूं. लेकिन जब फिल्म के मेकर्स ने पूरी कहानी सुनाई तो मैं दंग था. मुझे तो इस बात की जानकारी ही नहीं थी कि किस तरह से संदीप को गोली लगी थी व उसके बाद वह फिर से दोबारा उठ कर खड़े हुए थे. फिर उन्होंने राष्ट्र को वह सम्मान दिलाया. दिलजीत कहते हैं कि हॉकी का पूरा खेल ही आपकी कमर पर टिका है. दिलजीत ने यह भी स्वीकारा कि यह हमारे लिए बेहद दुखद है कि हमें ऐसे लीजेंड की कहानी पता ही नहीं थीं.