Thursday , 21 June 2018
Loading...
Breaking News

ऑयल की कीमतों को लेकर विपक्ष लगातार गवर्नमेंट पर हमला

ऑयल की कीमतों को लेकर विपक्ष लगातार गवर्नमेंट पर हमलावर है अब कांग्रेस पार्टी के महान नेता  पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने सवाल किया कि गवर्नमेंट ऑयल की बढ़ती कीमतों पर लगाम लगाने के लिए उसे GST के भीतर क्यों नहीं लाती? चिदंबरम ने बोला कि ताजा स्थिति गवर्नमेंट की नीतिगत गलतियों  गलत फैसलों के कारण पैदा हुई है चिदंबरम ने कृषि, जीडीपी, रोजगार सृजन, व्यापार  अर्थव्यवस्था के कुछ दूसरे मानकों के आधार पर गवर्नमेंट को घेरा पूर्व वित्त मंत्री ने यह भी बोला कि पेट्रोल, डीजल  एलपीजी की कीमतों में बढ़ोतरी की वजह से राष्ट्र में गुस्सा है

Related image

चिदंबरम ने कहा, ‘अगर आप ऑयल को GST के अंदर लाते हैं तो इसकी मूल्य कम हो जाएगी केंद्र में भाजपा गवर्नमेंट है, अधिकांश राज्यों में भी वही हैं ऐसे में राज्यों पर दोष क्यों डाला जा रहा है? उनके पास बहुमत है, उन्हें ऑयल को GST के भीतर लाना चाहिए ‘ बेरोजगारी के मुद्दे पर गवर्नमेंटको घेरते हुए चिदंबरम ने बोला कि अच्छे दिन के वादे के तहत हर वर्ष दो करोड़ नौकरियों का वादा किया गया था, लेकिन कुछ हजार नौकरियां ही पैदा की गई उन्होंने पूछा कि श्रम ब्यूरो के सर्वेक्षण (अक्टूबर-दिसंबर, 2017) का डेटा जारी क्यों नहीं किया गया

किसानों का जिक्र करते हुए चिदंबरम ने बोला कि किसान उनसे किए वादे पूरा न होने की वजह से प्रदर्शन कर रहे हैं वह बोले, ‘न्यूनतम समर्थन मूल्य के मुताबिक उपज के दाम नहीं मिल रहे हैं हर किसान जानता है कि लागत से 50 प्रतिशत से अधिक की बात जुमला है ‘ उन्होंने बोला कि रिजर्व बैंक के सर्वेक्षण के मुताबिक 48 प्रतिशत लोगों ने माना कि अर्थव्यवस्था की हालत बेकार हुई हैचिदंबरम ने कहा, ‘विश्व स्तर पर अर्थव्यवस्था का प्रभाव कुछ हद तक राष्ट्र की अर्थव्यवस्था पर होता है, लेकिन इन दिनों अमेरिका की अर्थव्यवस्था अच्छा कर रही है यूरोप में स्थिति अच्छा हैहिंदुस्तान में हमारी नीतिगत गलतियों  कुछ गलत कदमों की वजह से अर्थव्यवस्था की हालत बेकार हुई है ‘

यह भी पढ़ें:   कर्नाटक में जनता दल (सेकुलर)-कांग्रेस साझेदारी गवर्नमेंट ले चुकी शपथ
Loading...