Tuesday , 19 June 2018
Loading...
Breaking News

Trending फीचर को लेकर क्या था विवाद

फेसबुक की तरफ से यूजर्स की सुविधाओं को लेकर तमाम अपडेट्स किए जा रहे हैं. लेकिन हाल ही में आई एक रिपोर्ट कंपनी के लिए किसी खतरे की घंटी से कम नहीं है. दरअसल अमेरिका में रह रहे युवाओं के बीच एक सर्वे किया गया, जहां उनसे पूछा गया कि उन्हें कौन सा ऑन लाइन प्लेटफॉर्म ज्यादा पसंद है. सेन फ्रांसिस्को में ‘प्यू रिसर्च सेंटर’ की तरफ से किए गए सर्वे में युवाओं ने बोला कि ऑन लाइन प्लेटफॉर्म में उनकी पहली पसंद यूट्यूब है.Image result for Trending फीचर को लेकर क्या था विवाद

सर्वे का रिपोर्ट

सर्वे में पूछे गए सवालों के जवाब के मुताबिक 85 प्रतिशत युवा यूट्यूब को पसंद करते हैं. वहीं इंस्टाग्राम को 72 प्रतिशत  स्नैपचेट को 69 प्रतिशत युवा पसंद करते हैं. इस कड़ी में फेसबुक चौथे जगह पर है जिसे 51 प्रतिशत युवाओं ने अपनी पहली पसंद माना है. यहां ध्यान देना महत्वपूर्ण है कि इंस्टाग्राम फेसबुक की स्वामित्व वाला ऑन लाइन प्लेटफॉर्म है.

ये आधार भी हैं शामिल

रिपोर्ट के मुताबिक कम इनकम वाले वर्ग के युवाओं में फेसबुक के लोकप्रियता बरकरार है. जबकि ज्यादा आय वाले वर्ग के युवाओं में दूसरे ऑन लाइन की लोकप्रियता फेसबुक के मुकाबले ज्यादा है.

कौन सा प्लेटफॉर्म है लड़कियों में लोकप्रिय?

अमेरिका के सेनफ्रांसिस्को में आयोजित सर्वे में इस बात को भी बताया गया है कि लड़कियों में स्नैपचेट ज्यादा लोकप्रिय है. जबकि लड़कों में यूट्यूब की लोकप्रियता सबसे ज्यादा है.

Facebook पर जल्द आ रहा है Breaking News फीचर

फेसबुक अपने Trending फीचर को बंद कर के ब्रेकिंग न्यूज फीचर लाने जा रहा है. रिपोर्ट्स के मुताबिक ब्रेकिंग न्यूज फीचर को तीन भागों में बांटा गया है. इनमें ब्रेकिंग न्यूज लेवल, टूडे इन न्यूज वीडियो इन वॉच शामिल हैं.

बंद होगा Trending फीचर

ट्रेंडिंग फीचर बंद करने को लेकर फेसबुक ने अपने यूजर्स को जानकारी देनी प्रारम्भ कर दी है.फेसबुक का ट्रेंडिंग फीचर वर्ष 2014 में प्रारम्भ हुआ था, जिसको लेकर ये बहुत ज्यादा विवादों में रहा.फेसबुर का ट्रेंडिंग फीचर दुनियाभर के 5 राष्ट्रों में ही उपलब्ध है. इसमें केवल 1.5 प्रतिशत खबरों पर ही क्लिक होता है. इन खबरों की विश्वसनीयता भी कम होती है.

क्या था Trending फीचर?

यह भी पढ़ें:   हिंदुस्तान में लॉन्च हुआ Asus Zenfone Max Pro M1

फेसबुक के दाईं ओर देखने वाले ट्रेंडिंग फीचर में वो सभी मुद्दे दिखाई देते थे, जो राष्ट्र या संसार में लोगों के बीच लोकप्रिय हों. इन मुद्दों पर क्लिक करने के बाद यूजर्स इस मामले से जुड़े तमाम पोस्ट, फोटोज  वीडियोज को पढ़ सकते हैं.

 

इस फीचर को लेकर फेसबुक पर पक्षपात का आरोप लग रहा था. दरअसल एक रिपोर्ट के मुताबिक प्रारम्भ में समाचार का शीर्षक संपादकों की तरफ से चुने जाते थे. जिससे कट्टरवादी सोच को लगाम लगाया जाता था, लेकिन फिर फेसबुक ने संपादकों को हटा दिया. फेसबुक ने खबरों के लिए एक एलगोरिदम का प्रयोग किया. एल्गोरिदम ट्रेंड के हिसाब से खबरों को चुनता था लेकिन इसके चलते कई फर्जी  झूठी खबरें भी ट्रेंड में आने लगी. इसको लेकर फेसबुक की आलोचना भी हो रही थी.

Loading...