Thursday , 21 June 2018
Loading...
Breaking News

सैनिको को खुद खरीदनी होगी अपने लिए वर्दी

इंडियन सैनिकों को अब अपनी वर्दी को खरीदने के लिए खुद पैसा खर्च करना पड़ सकता है इसके पीछे बड़ी वजह है बजट में कटौती इसके लिए सेना ने अब ऑर्डनेंस फैक्ट्रियों से खरीदारी में कटौती करने का निर्णय किया है दरअसल गोला बारूद को खरीदने के लिए पैसा बचाने के उद्देश्य से ऐसा किया जा रहा है इकोनोमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक ऑर्डनेंस फैक्ट्री से होने वाली खरीदारी को 94 से 50 फीसदी पर लाने की तैयारी है

Image result for सैनिको को खुद खरीदनी होगी अपने लिए वर्दी

इस कटौती का प्रभाव ये होगा कि सैनिकों को अपनी वर्दी जूते समेत दूसरी चीजें खुद खरीदने की नौबत आ सकती है दरअसल केंद्र ने गोला बारूद की आपातकालीन खरीदारी के लिए अलावा फंड जारी नहीं किया है इस कारण सैनिकों की वर्दी की सप्लाई भी प्रभावित होगी रिपोर्ट के अनुसार, इससे कुछ  चीजों की सप्लाई में भी अंतर आ सकता है

सेना के गोला बारूद भंडार को भरा पूरा रखने के लिए हजारों करोड़ के फंड की आवश्यकता है केंद्र ने इस फंड में कुछ कमी की है ऐसे में सेना गोला बारूद खरीदने के लिए अपने दूसरे खर्चों में कटौती की योजना बना रही है इसलिए वह ऑर्डनेंस फैक्ट्री से होने वाली सप्लाई में कटौती करने जा रही है

सेना के एक ऑफिसर का कहना है कि इमरजेंसी में खरीदारी के लिए 5000 करोड़ खर्च किए गए हैंहालांकि अभी भी 6739.83 करोड़ रुपये का भुगतान बाकी है उन्होंने बताया कि दो अन्य स्कीम पांच वर्ष के लिए नहीं बल्कि तीन वर्ष की ही हैं सेना अब इस समस्या से जूझ रही है कि दो प्रॉजेक्ट्स के लिए भुगतान कैसे किया जाए क्योंकि केंद्र ने साफ कर दिया है कि इसकी व्यवस्था अपने बजट से करो