Saturday , 26 May 2018
Loading...

जाने क्यों बैंक कर्मचारियों को होना पड़ा लोगों के गुस्से का शिकार

वडोदरा: बैंक कर्मचारियों के संगठन ऑल इंडिया बैंक एंप्लाइज एसोसिएशन ( एआईबीईए ) ने नकदी संकट के लिए गवर्नमेंट  रिजर्व बैंक को आज जिम्मेदार बताते हुए आंदोलन प्रारम्भ करने की चेतावनी दी संगठन का कहना है कि बैंक शाखाओं तथा एटीएम में नकदी की कमी के कारण बैंक कर्मचारियों को लोगों के गुस्से का शिकार होना पड़ रहा है

Image result for अब बैंक संगठनों ने दी आंदोलन की धमकी‘उपभोक्ता हम पर चिल्ला रहे हैं’ 
संगठन के महासचिव सी  एच  वेंकटचलम ने बोला कि गवर्नमेंट  रिजर्व द्वारा पैदा किये गये संकट के कारण कर्मचारियों को लोगों की नाराजगी झेलनी पड़ रही है उन्होंने फोन पर बोला , ‘‘ उपभोक्ता हमारे ऊपर चिल्ला रहे हैं  बिना गलती के भी बैंक कर्मचारियों को गुस्से का सामना करना पड़ रहा है खाली बयानों से कुछ नहीं होने वाला है नकदी की आपूर्ति सही करने के लिए ठोस कदम उठाये जाने की आवश्यकता है ’’

यह भी पढ़ें:   समलैंगिक संबंध के कारण दो लड़कियों ने की शादी

वेंकटचलम ने जल्दी ही स्थिति में सुधार नहीं होने पर कर्मचारी संगठनों द्वारा देशव्यापी आंदोलन प्रारम्भ करने की चेतावनी दी हालांकि उन्होंने कोई स्पष्ट समयसीमा नहीं बताया  उन्होंने नकदी की अपर्याप्त आपूर्ति के लिए रिजर्व बैंक  गवर्नमेंट को जिम्मेदार बताते हुए बोला कि नवंबर 2016 में नोटबंदी के बाद 2,000 रुपये के नोट छापने के फैसला के कारण यह स्थिति उत्पन्न हुई है उन्होंने बोला , ‘‘ यदि नकदी की जमाखोरी  ब्लैक मनी रोकने के लिए 1000 रुपये के नेट बंद किए गए तो 2000 रुपये के नोट से यह दोनों कार्य सरल हो गया ’’

Loading...

‘अगर पर्याप्त मात्रा में नोट छापे जा रहे हैं तो फिर नोट कहां जा रहे हैं’
उन्होंने पूछा , ‘‘ रिजर्व बैंक गवर्नर ने बयान दिया कि पर्याप्त मात्रा में नोट छापे जा रहे हैंफिर ये नोट जा कहां रहे हैं ? क्या इसकी जांच नहीं की जानी चाहिए ? क्या उन्हें यह सुनिश्चित नहीं करना चाहिए कि बैंकों के पास लोगों की जरूरतों की पूर्ति के लिए पर्याप्त नकदी हो ?’’

यह भी पढ़ें:   जाने दीफॉर्च्यून के टॉप लीडर्स 2018 की लिस्ट में मुकेश अंबानी का रैंक

वेंकटचलम ने दावा किया कि नोटबंदी के 16 महीने के बाद भी एटीएम नए नोटों के अनुरूप नहीं किये जा सके हैं उन्होंने बोला कि संसद की मंजूरी के लिए लंबित ‘ वित्तीय समाशोधन एवं जमा सुरक्षा अधिनियम ’ ने भी समस्या को बढ़ाया है उन्होंने गवर्नमेंट से इस अधिनियम को तत्काल वापस लेने की मांग की इस बीच एसबीआई ने दावा किया है कि दशा को कल तक सही कर लिया जाएगा

Loading...