Loading...

हक्कानी ने पाकिस्तान को बोला चाइना की कठपुतली

नई दिल्ली: अमेरिका में इस्लामाबाद के राजदूत रह चुके हुसैन हक्कानी ने बोला है कि पाक को लड़ाकू राष्ट्र बनने के बजाय कारोबारी राष्ट्र बनना चाहिए  सुनिश्चित करना चाहिए कि वह चाइना की कठपुतली न बने हक्कानी ने बताया कि पाक को इस बारे में विचार करने की जरूरत है कि आतंकवाद के संदिग्ध हाफिज सईद का समर्थन करना या फिर अंतर्राष्ट्रीय विश्वसनीयता सम्मान हासिल करने में से क्या ज्यादा जरूरी है पहले से ही मजबूत चीन- पाकिस्तान संबंधों के  मजबूत होने के बीच हक्कानी ने जोर देकर बोला कि पाक को चाइना पर निर्भर रहने की तरफ नहीं जाना चाहिए  चाइना की कठपुतली बनने से दूर रहना चाहिए

Related imageइस्लामाबाद को एक बड़ी शक्ति के साथ जुड़ने के खतरों के प्रति आगाह करते हुए उन्होंने बोला , ‘‘ पाक को आत्मनिर्भर अर्थव्यवस्था ’’ बनने की जरूरत है   हक्कानी 2008 से 2011 तक अमेरिका में पाक के राजदूत थे पिछले हफ्तेअपनी नयी किताब ‘ रीइमेजिनिंग पाक : ट्रांसफार्मिंग ए डिस्फंक्शनल न्यूक्लियर स्टेट ’ के विमोचन के लिए हिंदुस्तान आए हक्कानी ने बोला कि इस्लामाबाद को आर्थिक एरिया सहित ‘‘ अपनी समूची दिशा पर पुनर्विचार ’’ की जरूरत है

उनकी टिप्पणी का बहुत ज्यादा महत्व है क्योंकि जनवरी में अमेरिका ने यह आरोप लगाते हुए पाक को दी जाने वाली 1.15 अरब डॉलर की सुरक्षा सहायता रोक दी थी कि वह अफगान तालिबान  अफगान गुरिल्ला समूह हक्कानी नेटवर्क जैसे आतंकवादीसमूहों को शरण दे रहा है

loading...

यह पूछे जाने पर कि क्या आतंक के विरूद्ध अमेरिका का कड़ा रुख इस्लामाबाद को बीजिंग के साथ एक मजबूत सैन्य साझेदारी की ओर ले जाएगा, हक्कानी ने बोला कि जितना अमेरिका  हिंदुस्तान करीब आएंगे , उतना ही पाक चाइना के साथ अपने संबंधों को मजूबत करने की प्रयास करेगा कश्मीर के मुद्दे पर हक्कानी ने बोला , ‘‘ यह एक सच है कि कश्मीर समस्या का निवारण 70 वर्ष में नहीं हुआ है    यदि पाकहिंदुस्तान के साथ संबंधों को सामान्य करने की दिशा में बढ़ने से पहले कश्मीर समस्या के निवारण पर जोर देता है तो 70 वर्ष  इंतजार करना पड़ेगा ’’

यह भी पढ़ें:   अमेरिका ने ईरान में बंद राजनीतिक कैदियों की तत्काल रिहाई की मांग की

हक्कानी को अमेरिका में पाक के राजदूत पद से मेमोगेट टकराव के चलते हटा दिया गया था जो अलकायदा के मुखिया ओसामा बिन लादेन के मारे जाने के बाद पाक में असैन्य गवर्नमेंट पर सेना के कब्जे को टालने के लिए ज्ञापन ( मेमोरैंडम ) देकर ओबामा प्रशासन से मदद मांगने से जुड़ा था

Loading...