Loading...

आरोपी की तलाश में गई डीएसपी की किया गया निलंबित

भोपाल : एक पुलिस ऑफिसर को महज इसलिए निलंबित कर दिया गया, क्योंकि उसने बिना अनुमति मुख्यालय छोड़ दिया था. वह विदिशा जिले में एक महिला को 40 हजार रुपए में बेचे जाने के मामले में आरोपितों की तलाश में गई थीं. जब उक्त पुलिस ऑफिसर को निलंबन की जानकारी लगी तो वे पुलिस दल के साथ आरोपित को लेकर सीधे पुलिस मुख्यालय में सफाई देने पहुंच गई.

Related imageअब इस गंभीर मामले की विवेचना दूसरे राजपत्रित पुलिस ऑफिसर को सौंप दी गई है. ग्वालियर में ब्याही पूजा (काल्पनिक नाम) को सुनील श्रीवास्तव नाम के आदमी ने विदिशा जिले की लटेरी तहसील में करीब दो महीने पहले जगदीश गुर्जर नामक आदमी को बेच दिया था. पूजा का मायका सागर का था  उसका सुनील से पूर्व परिचय था. वह उसे झांसा देकर अपने साथ ले गया.आरोप है कि बाद में डरा-धमकाकर उसने लटेरी के पास रहने वाले जगदीश से पूजा की विवाह करा दी. सुनील ने युवती को 40 हजार रुपए में जगदीश को बेचा था.

 पीथमपुर पहुंची अजाक की टीम

इस मामले की जांच विदिशा जिले की अनुसूचित जाति कल्याण शाखा की डीएसपी सारिका जैन कर रही थीं  जगदीश की गिरफ्तारी के बाद सुनील को पकड़ने के कोशिश प्रारम्भ किए गए. सूत्रों के मुताबिक इस बीच पिछले वर्षसुनील के धार जिले के पीथमपुर में होने की सूचना पर अजाक की टीम वहां पहुंची, जिसमें डीएसपी सहित एक हवलदार  एक सिपाही भी शामिल थीं.वहां सुनील की गिरफ्तारी हो गई.

एडीजी अजाक थाने पहुंची तो हुआ निलंबन

यह भी पढ़ें:   जारी है स्मारकों को क्षतिग्रस्त करने का सिलसिला

जानकारी के मुताबिक पीएचक्यू की एडीजी अजाक प्रज्ञा ऋचा श्रीवास्तव विदिशा में अजाक थाने का निरीक्षण करने पहुंची थीं. वहां उन्हें डीएसपी सारिका जैन सहित कुछ लोग नहीं मिले. उनके बारे में जिला पुलिस अफसरों को भी जानकारी नहीं थी. इस आधार पर एडीजी अजाक ने डीएसपी को निलंबित कर दिया.

Loading...
loading...
 आरोपी को लेकर पीएचक्यू पहुंची

सूत्रों के मुताबिक निलंबन की खबरें सुनकर डीएसपी एक सिपाही  एक हवलदार के साथ आरोपित सुनील श्रीवास्तव को लेकर पीएचक्यू के गेट नंबर दो पर पहुंच गई. पहले वे आरोपित को उसी हालत में लेकर मुख्यालय में ऑफिसर के सामने पेश होना चाह रही थीं, लेकिन बाद में उन्होंने अकेले मिलकर अपना पक्ष रखने का निर्णय किया. इस बीच आरोपित की हथकड़ी भी खुलवाई  गमछे से हाथ बंधवाकर गाड़ी में बैठा दिया गया.

निलंबन का कारण दूसरा

यह भी पढ़ें:   ये है संसार का अजीबो गरीबो रहस्य

लटेरी के मामले में आरोपी की गिरफ्तारी हुई है. विवेचना करने वाले डीएसपी का निलंबन काम में लापरवाही बरतने के आरोप में हुआ है. – प्रज्ञा ऋचा श्रीवास्तव, एडीजी अजाक

Loading...