Monday , 21 May 2018
Loading...

जाने क्या अंतर है इनकम कर और TDS में

नई दिल्ली :अधिकतर कर पेयर इनकम कर  टीडीएस के बीच के अंतर को नहीं समझते हैं. वो यह मानते हैं कि दोनों एक ही वस्तु होती हैं, लेकिन ऐसा नहीं है. हालांकि इन दोनों का प्रयोग गवर्नमेंट की ओर से करकलेक्ट करने के लिए ही किया जाता है, लेकिन गणना के लिहाज से दोनों की प्रणाली में अंतर होता है.

ऐसे में जो भी नौकरीपेशा करदाता हैं उन्हें अपने इस भ्रम को दूर कर लेना चाहिए कि दोनों एक ही वस्तु होती हैं. साथ ही उन्हें इन दोनों की प्रासंगिकता निहितार्थ को भी समझना चाहिए. अगर आप भी इनकम कर  टीडीएस को लेकर अक्सर कन्फ्यूज रहते हैं तो हम अपनी इस स्टोरी में आपके इसी भ्रम को दूर करने जा रहे हैं.

Image result for जाने क्या अंतर है इनकम कर और  TDS मेंक्या होता है इनकम टैक्स: इनकम टैक्स एक जरूरी सहयोग होता है जो कि नौकरीपेशा आदमी की पर्सनल आय पर लगाया जाता है. इसमें स्टैंडर्ड करस्लैब का निर्धारण किया गया है उसी के आधार पर आपको इनकम कर देना होता है. यानी पर्सनल आधार पर अलग अलग आदमी की कर देयता अलग अलग होती है.

 टीडीएस (टैक्स डिडक्टेड एट सोर्स): यह आपके आय के स्रोत यानी की आपकी सैलरी से कटता है. टीडीएस इनकम कर का ही एक भाग होता है जिसका भुगतान करदाता पहले ही कर चुका होता है. इसका सेटलमेंट इनकम कर रिटर्न (आईटीआर) भरने के दौरान कर दिया जाता है, अगर आपकी सैलरी से कटा टीडीएस आपकी कुल कर देनदारी से ज्यादा होता है तो वह आपको आईटीआर फाइलिंग के जरिए वापस कर दिया जाता है. कुल मिलाकर यह एक ऐसी प्रक्रिया होती है जिसके माध्यम से गवर्नमेंट करों को तुरंत  कुशलतापूर्वक एकत्र कर सकती है. टीडीएस कटौती आपकी आमदनी, आपको मिले कमीशन, प्रोफेशनल फीस  एफडी पर मिले ब्याज पर होती है.

इनकम कर  टीडीएस में अंतर: टीडीएस कटौती आमदनी होने के साथ ही हो जाती है, यानी टीडीएस का भुगतान करदाता पहले कर देता है, जबकि इनकम कर का भुगतान बाद में किया जाता है. दोनों में कुछ बारीक अंतर होता है