Loading...

नीरव मोदी घोटाले के बाद PNB की मुंबई ब्रांच में एक और बड़ा फ्रॉड

नई दिल्‍ली : देश के सबसे बड़े बैंकिंग घोटाले का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ कि मुंबई की ब्रांच में एक  फ्रॉड सामने आया है मुंबई की पीएनबी ब्रांच में करीब 9.9 करोड़ रुपये का एक  फ्रॉड का खुलासा हुआ है, इसकी जानकारी फेडरल पुलिस को दी गई शिकायत के आधार पर हुई है यह मामला भी उसी ब्रांच का बताया जा रहा है जिस शाखा में नीरव मोदी से जुड़ा घोटाला सामने आया था सूत्रों के अनुसार यह मामला एक छोटी कंपनी चंदेरी पेपर एंड एलाइड प्रोडक्टस प्राइवेट लिमिटेड का बताया जा रहा है फ्रॉड के ताजा मामले में अभी तक पीएनबी के प्रवक्ता का कोई बयान नहीं आया है इसके अतिरिक्त चंदेरी पेपर की तरफ से भी कोई बयान नहीं दिया गया है

सीबीआई  प्रवर्तन निदेशालय तेजी से कार्रवाई कर रही
इससे पहले हीरा कारोबारी की तरफ से पीएनबी को 12,600 करोड़ रुपये से ज्यादा का चूना लगाकर विदेश भागने के मामले में जांच चल रही है इस पूरे मामले में CBI  प्रवर्तन निदेशालय तेजी से कार्रवाई कर रही हैं सबसे बड़े बैंकिंग घोटाले पर चुप्पी तोड़ते हुए बुधवार को भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल ने बोला था कि सार्वजनिक बैंकों के घोटाले रोकने के लिए केंद्रीय बैंक को  अधिक नियामकीय शक्तियां दी जानी चाहिए

आरबीआई की शक्तियां बढ़ाने की जरूरत
उर्जित पटेल ने बोला कि उसके पास इस समय जो शक्तियां है वे घोटालेबाजों के मन में डर पैदा करने के लिए पर्याप्त नहीं हैं पटेल की टिप्पणी ऐसे समय में आई है जबकि हीरा कारोबारी नीरव मोदी  उसके मामा मेहुल चौकसी की फर्मों के पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) को 12 हजार 600 करोड़ रुपये का चूना लगाए जाने का मामला सामने आया है नीरव और मेहुल राष्ट्र से बाहर भाग गए हैं

loading...

पटेल ने केंद्रीय बैंक के पास बेहद सीमित अधिकार होने का जिक्र करते हुए बोला कि रिजर्व बैंक किसी सार्वजनिक बैंक के निदेशकों या प्रबंधन को हटाने में सक्षम नहीं है भारतीय रिजर्व बैंक सार्वजनिक बैंकों का विलय भी नहीं करा सकता है  न ही वह इन बैंकों को परिसमाप्त करने की कार्रवाई प्रारम्भ करा सकता है

Loading...