Loading...
Home >> Life Style >> पारद का महत्त्व एवं विभिन्न उपाय

पारद का महत्त्व एवं विभिन्न उपाय

Related imageहिन्दू कैलेंडर के अनुसार महाशिवरात्रि का त्योहार प्रतिवर्ष फाल्गुन मास की कृष्ण चतुर्दशी को अर्थात अमावस्या से एक दिन पहले वाली रात को मनाया जाता है ऐसा बोलाजाता है कि सृष्टि के प्रारंभ में इसी दिन मध्यरात्रि को ईश्वर शंकर रूद्र के रूप में प्रजापिता ब्रह्मा के बॉडी से प्रकट हुए थे एक मान्यता यह भी है कि इसी दिन ईश्वर शिव का पार्वतीजी से शादी हुआ था  इन सब कारणों से महाशिवरात्रि का हिंदू धर्मग्रंथों में बहुत महत्व है

यह तो सभी जानते हैं कि महाशिवरात्रि के दिन प्रातः काल से ही शिवमंदिर में दर्शन हेतु कतारें लग जाती हैं  शिव पूजन हेतु लोग जल से तथा दूध से ईश्वर शिव का अभिषेक करते हैं  कुछ लोग गंगाजल से भी शिवलिंग को स्नान कराते हैं  दूध, दही, घी, शहद  शक्कर के मिलावट से भी स्नान कराया जाता हैं  शिव लिंग पर चन्दन लगाकर उन्हें फूल, बिल लेटर अर्पित किये जाते हैं धूप  दीप से ईश्वर शिव की आरती की जाती है  लेकिन क्या आप जानते हैं कि इन छः वस्तुओं से शिव पूजन करने का क्या महत्व हैइसका विवरण शिव पुराण में मिलता है

दरअसल शिव पूजन में भक्तगण बिल लेटर से पानी शिव लिंग पर चढ़ाते है उसका आशय यह है कि शिव की क्रोध की अग्नि को शान्त करने के लिये ठन्डे पानी और बिलपत्र से स्नान कराया जाता है जिसे आत्मा की शुद्धि का प्रतीक माना गया है इसी तरह शिव स्नान के बाद शिव लिंग पर चन्दन का टीका लगाना शुभ भाव जाग्रत करने का प्रतीक माना गया है जबकि फल, फूल चढ़ाने का मतलब शिव के प्रति धन्यवाद ज्ञापित करना है कि हम पर ईश्वर शिव की कृपा बनी रहे

loading...

धूप जलाने से सब अशुद्ध वायु,कीटाणु, गंदगी का नाश करने का प्रतीक है साथ ही हमारे सब संकट, कष्ट,दुःख दूर रहे, सब सुखी रहें यह कामना की जाती है वहीं शिव पूजन में दीपक इसलिए जलाया जाता है ,ताकि शिव हमें ज्ञान दें,प्रकाश दें,ताकि हम सदा उन्नति के पथ पर निरंतर आगे बढते रहें इसी तरह पूजन में प्रयुक्त पान का पत्ता संतुष्टि भाव का परिचायक है  अर्थात प्रभु ने हमें जो दिया है हम उसके प्रति धन्यवाद ज्ञापित करते है मन्दिर की घण्टी बजाना अपनी आत्मा को सतर्क करने का इशारा माना गया है