Loading...

स्टेट बैंक को तीसरी तिमाही में 1,887 करोड़ रुपये का घाटा

स्टेट बैंक को तीसरी तिमाही में 1,887 करोड़ रुपये का घाटाकोलकाता : सरकारी यूको बैंक ने 31 दिसंबर, 2017 को समाप्त हुई तिमाही में 1,016.43 करोड़ रुपये का नुकसान दर्ज किया है, जबकि एक वर्ष पहले कंपनी को समान तिमाही में 437.09 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था फंसे हुए कर्ज के लिए उच्च प्रावधान करने के कारण बैंक के मुनाफे को चपत लगी है समीक्षाधीन अवधि में बैंक के परिचालन मुनाफे में पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में 58.5 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई बैंक ने बताया कि समीक्षाधीन अवधि में उसकी ब्याज आय घटकर 3,449.55 करोड़ रुपये रही, जबकि एक वर्ष पहले की समान अवधि में यह 4192.47 करोड़ रुपये थी

समीक्षाधीन तिमाही में कर  आकस्मिकताओं के अतिरिक्त अन्य प्रावधान 1,385.38 करोड़ रुपये रहे, जबकि पिछले वर्ष की समान तिमाही में यह 1,326.05 करोड़ रुपये थी इस दौरान बैंक के सकल गैर निष्पादित परिसंपत्तियां (फंसा हुआ कर्ज या एनपीए) 14.43 प्रतिशत बढ़कर 25,382.40 करोड़ रुपये हो गईं, जबकि सकल एनपीए कुल कर्ज का 20.64 प्रतिशत रहा, जबकि वित्त साल 2016-17 की तीसरी तिमाही में यह 17.18 प्रतिशत था समीक्षाधीन अवधि में बैंक का एनपीए अनुपात 10.90 प्रतिशत हो गया, जबकि पिछले वित्त साल की समान तिमाही में यह 8.99 प्रतिशत था

इससे पहले राष्ट्र के सबसे बड़े इंडियन स्टेट बैंक (एसबीआई) ने चालू वित्त साल की तीसरी तिमाही में 2,416.37 करोड़ रुपये का नुकसान दर्ज किया है बैंक की तरफ से शुक्रवार को यह जानकारी दी गई बंबई स्टॉक एक्सचेंज में दाखिल नियामकीय फाइलिंग में बैंक ने बोला कि उसने 31 दिसंबर को समाप्त हुई तिमाही में कुल 2,416.37 करोड़ रुपये का नुकसान दर्ज किया है, जबकि पिछले वित्त साल की समान अवधि में बैंक ने 2,610 करोड़ रुपये का मुनाफा दर्ज किया था

loading...

समीक्षाधीन तिमाही में एसबीआई की कुल आय 62,887.06 करोड़ रुपये रही, जोकि 31 दिसंबर, 2016 को समाप्त तिमाही में 53,587.51 करोड़ रुपये थी समीक्षाधीन अवधि में एसबीआई का सकल फंसा हुआ कर्ज (गैर-निष्पादित परिसंपत्तियां या जीएनपीए) 1,99,141.34 करोड़ रुपये रहा, तथा शुद्ध एनपीए 1,02,370.12 करोड़ रुपये रहाजबकि वित्त साल 2016-17 की तीसरी तिमाही के दौरान जीएनपीए 1,08,172.32 करोड़ रुपये तथा एनपीए 61,430.45 करोड़ रुपये था

Loading...