Loading...
Home >> Business >> अगले वित्त वर्ष में राजकोषीय घाटे की स्थिति संतोषजनक रहने की उम्मीद: जेटली

अगले वित्त वर्ष में राजकोषीय घाटे की स्थिति संतोषजनक रहने की उम्मीद: जेटली

नई दिल्ली : बाजार नियामक इंडियन प्रतिभूति  विनिमय बोर्ड (सेबी) के चेयरमैन अजय त्यागी ने कॉरपोरेट बांड मार्केट को बेहतर समर्थन मिलने की उम्मीद जाहिर करते हुए शनिवार को बोला कि सूचीबद्ध कंपनियों के लिए बॉन्ड के जरिये जरूरी रूप से 25 फीसदी पूंजी जुटाने के बारे में नियमों को सितंबर तक जारी कर दिया जायेगा वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा सेबी निदेशक मंडल  शीर्ष अधिकारियों को संबोधित किये जाने के बाद मीडिया से बात करते हुए त्यागी ने बोला कि छोटे निवेशकों को मार्केट की गिरावट से घबराना नहीं चाहिए क्योंकि वे म्यूचुअल फंड के जरिये निवेश कर सही कर रहे हैं

कुछ समय तक उथल-पुथल की स्थिति रहेगी
हालांकि, उन्होंने यह जरूर बोला कि म्यूचुअल फंड के जरिये किया गया निवेश बैंक जमा की तरह जोखिम से पूरी तरह मुक्त नहीं है उन्होंने बोला कि इंडियन मार्केट में वैश्विक कारणों से कुछ समय तक उथल-पुथल की स्थिति रह सकती है लेकिन निवेशकों के लिए इंडियन मार्केट को लेकर सुरक्षा के संदर्भ में कोई संभावना नहीं होनी चाहिये बजट में शेयरों से होने वाली आय पर प्रस्तावित दीर्घकालिक पूंजीगत फायदा कर को लेकर आशंकाओं के बारे में उन्होंने बोला कि अभी तक इसके मामले में निवेशकों का कोई प्रतिनिधिमंडल सेबी से मिला नहीं है

म्यूचुअल फंड के जरिये बहुत ज्यादा निवेश हो रहा
त्यागी ने कहा, यह कहना गलत है कि इसका इंडियन मार्केट पर कोई प्रभाव नहीं होगा हालांकि, यह प्रभाव घटेगा  वैश्विक कारक ही बड़े जोखिम बने रहेंगे सेबी चेयरमैन ने इस बात को लेकर भरोसा जाहिर किया कि आईपीओ की संख्या के संदर्भ में इंडियन मार्केट अच्छा कर रहे हैं  निवेशक म्यूचुअल फंड के जरिये बहुत ज्यादा निवेश कर रहे हैंयह सकारात्मक चलन जारी रहना चाहिए

loading...

त्यागी ने कहा, ‘सेबी कॉरपोरेट बांड के जरिये पूंजी जुटाने को लेकर कंपनियों को प्रात्साहित करने के लिए इस मामले में जल्दी ही प्रावधान पेश करेगा सूचीबद्ध कंपनियों के लिए 25 फीसदी पूंजी कॉरपोरेट बांड के जरिये जुटाना जरूरी किये जाने का गवर्नमेंट का प्रस्ताव अच्छा कदम है सेबी इस विषय में सितंबर में नियम लेकर सामने आएगा ’

क्रिप्टोकरेंसी के मुद्दे पर उन्होंने कहा, वित्तमंत्री ने पहले ही यह स्पष्ट कर दिया कि ये हिंदुस्तान में वैध नहीं हैं  इस पूरे मामले को पहले ही एक समिति देख रही है उन्होंने बोला कि समिति के सुझाव जल्दी ही आ जाएंगे  तब पता चल पाएगा कि सेबी की क्या किरदार होगी कॉरपोरेट संचालन को लेकर कोटक समिति के लंबित प्रस्तावों के बारे में त्यागी ने बोला कि सेबी को पहले ही लोगों की रिएक्शन मिल चुकी है  निदेशक मंडल की अगली मीटिंग में अंतिम प्रावधान को विचार के लिए रखा जाएगा