Home >> National >> नड्डा की आहट के बाद बदले सुर, सीएम से मिले धूमल

नड्डा की आहट के बाद बदले सुर, सीएम से मिले धूमल

cm virbhadra singh and prem kumar dhumal secret meeting at Oakover Shimlaहिमाचल की पॉलिटिक्स में धूमल  वीरभद्र की सियासी जंग के अंत के बाद पहली बार तपोवन के सदन में पीढ़ी बदलाव की सियासत प्रारम्भ हुई. दो दशक के बाद सदन में बीजेपी कांग्रेस पार्टी ने नए सियासी रिश्तों के सहारे आगे की राजनीतिक पारी का आगाज किया.  CM जयराम ठाकुर  नेता विपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने मिलकर राजनीतिक रिश्तों पर जमी पुरानी सियासी बर्फ को पिघलाने का दांव चला. अब सियासी मोर्चे पर सत्ता  विपक्ष के तेवर इन दोनों नेताओं की सियासी सूझबूझ पर टिके हैं.

इसकी आरंभ विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव से हो गई है. कांग्रेस पार्टी विधायक दल ने राजीव बिंदल का समर्थन कर सत्ता पक्ष से नेता प्रतिपक्ष का दर्जा हासिल करने का दांव चल दिया है, जबकि जयराम की असल इम्तिहान राष्ट्रपति अभिभाषण पर होने वाली चर्चा में विपक्ष को शांत रखने से होगी.

आगे पढ़ें

यह भी पढ़ें:   अरुणाचल पर अमेरिकी राजदूत के ट्वीट से भड़का चीन, कहा- इससे मामला और उलझेगा

सत्ता पक्ष के समक्ष दोस्ती का हाथ बढ़ा दिया

नेता विपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने भी बेवजह गवर्नमेंट को न घेरने की बात कहकर सत्ता पक्ष के समक्ष दोस्ती का हाथ बढ़ा दिया. वहीं, CM जयराम ठाकुर भी सत्ता पक्ष  विपक्ष में नयी पीढ़ी के आगाज की बात कहकर रचनात्मक योगदान से गवर्नमेंट को चलाने की पिछले दो दिन से दुहाई देते दिखे.

Loading...
loading...

जयराम  मुकेश को अब 23 नए विधायकों की एंट्री  पुराने दिग्गजों की विदाई नए सियासी समीकरणों के मुफीद दिख रही है. उधर, चार दिन के सत्र के पहले दिन सदस्यों के शपथ ग्रहण के दौरान माहौल खुशनुमा रहा. सदन में सत्ता पक्ष  विपक्ष के नेता एक-दूसरे से गले मिलते दिखे.

अंदर का दोस्ताना माहौल मंगलवार रात को दोनों ओर के विधायक दलों की मीटिंग में तय हुई सोची-समझी सियासत का भाग बन गया. चार दिन के सत्र में अगले दो दिन बेहद अहम हैं.

बीजेपी की रणनीति विधानसभा अध्यक्ष  उपाध्यक्ष के चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से करवाने के साथ गवर्नर के अभिभाषण की चर्चा के दौरान विपक्ष को शांत रखने की चुनौती है. जयराम गवर्नमेंट ने इसके लिए रणनीति तय कर दी है.