Loading...

2 वर्ष में लड़के का 22 लीटर खून चूस गए कीड़े, सच जानकर डॉक्टर भी हैरान

2 वर्ष में लड़के का 22 लीटर खून चूस गए कीड़े, सच जानकर डॉक्टर भी हैराननई दिल्ली: 14 वर्ष का बच्चा अजीब बीमारी से जूझ रहा था खून में हीमोग्लोबिन की मात्रा लगातार कम हो रही थी खून चढ़ाने के बाद भी वजह पकड़ाई में नहीं आई टेस्ट किए गए लेकिन सबकुछ नॉर्मल निकला 2 वर्ष में बच्चे का करीब 50 यूनिट (22 लीटर) खून कहां गया कुछ समझ नहीं आया आखिरकार, दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में डॉक्टरों ने कैप्सूल एंडोस्कोपी का प्रयोग करने का निर्णय किया जो वस्तु सामने आई, उसने सबको हिला कर रख दिया उत्तराखंड के हल्द्वानी के 14 वर्ष के एक किशोर के पेट में मौजूद हुकवॉर्म (एक तरह का कीड़ा) ने 2 वर्ष में 22 लीटर यानी 50 यूनिट खून चूस लिया था हालांकि, आरंभ में चिकित्सक बच्चा को एनीमिया का शिकार मान रहे थे

खून चूस रहा था हुकवॉर्म
हुकवॉर्म के खून चूसने के कारण किशोर के बॉडी में खून की कमी को देखते हुए उसे बार-बार खून चढ़ाया जा रहा था 14 वर्ष के बच्चे में औसतन 4 लीटर खून होता है बच्चा 2 वर्ष से इस समस्या से परेशान था  उसके शौच से खून आता था, जिसके कारण उसके बॉडी में आयरन में कमी आ गई  भी कई तरह की बीमारियों ने घेर लिया लंबे समय तक जांच के बाद उसे 6 महीने पहले दिल्ली के गंगाराम अस्पताल लाया गया जहां पता चला कि वह बच्चा पेट में मौजूद कीड़ों की वजह से परेशान है गंगाराम अस्पताल के डॉक्टरों ने कैप्सूल एंडोस्कोपी के जरिए इस नुकसानदेह बीमारी का पता लगाया फिर इसका उपचार किया

loading...

क्या होती है कैप्सूल एंडोस्कोपी?
कैप्सूल एंडोस्कोपी एक तरह से डॉक्टरों का वायरलेस कैमरा है इसमें एक कैप्सूल में एक वायरलेस कैमरा लगाकर पेट में छोड़ा जाता है ये कैमरा पेट के अंदर की फोटोज़ लेता रहता है इस कैमरे की बैट्री 12 घंटे चलती है  हर सेकेंड 12 फोटो बाहर भेजता है बैट्री समाप्त होने तक ये तकरीबन 70 से 75 हजार फोटोज़ खींच लेता है इसे स्क्रीन पर लाइव भी देखा जा सकता है कैप्सूल एंडोस्कोपी में पहले हाफ में आंत सामान्य दिख रहा था, जबकि दूसरे हाफ में वहां खून दिखने लगा इसके बाद गंभीर परीक्षण करने पर पता चला कि पेट में हुकवॉर्म है  वही खून पी रहा है