Loading...
Home >> State >> नाराज किसानों का जबरदस्त विरोध-प्रदर्शन, CM आवास के बाहर फेंके आलू

नाराज किसानों का जबरदस्त विरोध-प्रदर्शन, CM आवास के बाहर फेंके आलू

PunjabKesariलखनऊ : यूपी में गवर्नमेंट बदल गई, पूरा प्रशासन बदल गया, अगर नहीं बदला तो वह है किसानों की दुर्दशा यूपी में चाहे गन्ना किसान हो या फिर आलू-प्याज किसान, उसकी समस्याएं जस की तस बनी हुई हैं, चाहे गवर्नमेंट किसानों की हालात सुधारने के लाख दावे करे समस्याओं से परेशान आलू किसानों का धैर्य जवाब दे गया किसानों ने लखनऊ में CM आवास विधानसभा मार्ग पर आलू फेंक कर अपना आक्रोश जाहिर किया शुक्रवर देर रात किसान ट्रेक्टर-टॉली में आलू भरकर लाए  राजधानी की सड़कों पर फैला दिए

यूपी में किसान आलू की कम कीमतें मिलने से परेशान हैं किसानों का इस समय आलू की मूल्य चार रुपये प्रति किलो मिल रही है इससे किसानों को उनकी फसल की लागत भी नहीं निकल पा रही है किसानों ने गवर्नमेंट से आलू की मूल्य 10 रुपये किलो करने की मांग की थी, लेकिन गवर्नमेंट पर उनकी मांग का कोई प्रभाव नहीं हुआ  परेशान किसानों ने CMआवास  विधानसभा के सामने आलू फेंक कर अपना गुस्सा जाहिर किया प्रातः काल जब प्रशासन को इस बात की समाचार लगी तो हड़कंप मच गया अधिकारियों ने आनन-फानन में सड़कों से आलू उठवाने का कार्य करवाया, लेकिन तब तक वाहनों के नीचे आकर आलू चारों तरफ फैल चुके थे

पुलिस करेगी कार्रवाई
मामला सामने आने के बाद लखनऊ के एसएसपी दीपक कुमार ने बोला कि आलू फेंकने वाले किसानों  वाहनों की पहचान हो गई हैं इन लोगों के विरूद्ध केस दर्ज करके कार्रवाई की जाएगी  लखनऊ ही नहीं प्रदेश के अन्य हिस्सों में भी आलू किसान गवर्नमेंट के विरूद्ध विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं

loading...
अधिक पैदावार से किसानों को आलू की किमत 20 पैसे किलो मिल रही है

रिकॉर्ड उत्पादन
बता दें कि इस बार उत्तर प्रदेश में आलू की बंपर पैदावार हुई है फर्रुखाबाद, आगरा, बाराबंकी, मेरठ, बुलंदशहर  कानपुर ये कुछ ऐसे इलाके हैं जहां आलू की जोरदार खेती होती है इस वर्ष भी इन इलाकों में आलू की भारी पैदावार हुई है बंपर पैदावार ने किसानों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं अब किसानों को मंडियों में आलू की सही मूल्य तो दूर उसकी लागत भी नहीं मिल रही है किसान 200 रुपये क्विंटल से भी कम मूल्य पर अपना आलू बेचने को मजबूर हैं इस तरह किसान का आलू 20 पैसे किलो बिक रहा है कोल्ड स्टोर भर चुके हैं अब ना तो उन्हें कोल्ड स्टोर में स्थान मिल पा रही है  ना ही मार्केट में सही कीमत परेशान किसानों ने आलू तालाबों या सड़कों के किनारे फेंकने प्रारम्भ कर दिए हैं

उत्तर प्रदेश में इस बार आलू की बंपर फसल हुई है

सरकार ने दिए निर्देश
2016-17 में राज्य में आलू का 155 से 160 लाख टन उत्पादन हुआ है आलू की बंपर पैदावार को देखते हुए CM योगी आदित्यनाथ ने पीएम  कृषि मंत्री से चर्चा की थी उन्होंने मांग की थी कि उत्तर प्रदेश के आलू की खरीद अन्य राज्यों में भी की जाए अप्रैल को जारी किए गए एक ऑर्डर में उत्तर प्रदेश गवर्नमेंट ने बोला कि अगर कम दाम वाली मंडियों से आलू को महंगे दाम वाली मंडियों में ले जाने का प्रबंध होता है, तो किसानों को उचित मूल्य मिल सकता है इसके लिए योगी ने जिलाधिकारियों को आदेश जारी किए थे